Posts

जब तुम नहीं आते

Image
अक्सर ही ऐसा होता है उम्मीदों की उंगली थामे दिल चल पड़ता है तमन्ना की पथरीली राहों में और चुभता है फिर किसी की बेरुख़ी का कांटा फिर लहूलुहान दिल लौट पड़ता है दर्द के दरख्त की तरफ अक्सर ही ऐसा होता है

मन अकुला जाता है जब तुम नहीं आते एक टीस सी उठती है हृदय में  जैसे आ गया हूँ मैं प्रलय में  आतुर हो नयन भटकते हैं  अश्रु पलकों पर मचलते हैं  ऋतु-रंग कुछ नहीं सुहाते मन अकुला जाता है जब तुम नहीं आते...

घर बनाने में

Image
न तारे, चाँद, गुलशन औ' अम्बर बनाने में जरूरी जिस कदर है सावधानी घर बनाने में
अचानक अश्क़ टपके और बच गई आबरू वरना कसर छोड़ी न थी उसने मुझे पत्थर बनाने में
मैं सारी उम्र जिनके वास्ते चुन-चुन के लाया गुल वो ही मसरूफ़ थे मेरे लिए खंज़र बनाने में
चित्र साभार- गूगल

सुबकते रहते हैं

Image
याद से बारहा तेरी उलझते रहते हैं सिमटते रहते हैं या फिर बिखरते रहते हैं
तेरा ख़याल भी छू ले अगर ज़ेहन को मेरे रात दिन दोपहर हम तो महकते रहते हैं
इसलिये ही बनी रहती है नमी आँखों में ख़्वाब कुछ छुपके पलक में सुबकते रहते हैं
चित्र साभार- गूगल

ईश्वर से प्रेम करना सिखाएं, डरना नहीं

Image
आस्थावानों के लिए ईश्वर एक सार्वभौमिक शक्ति है, जिसे विभिन्न रूपों में पूजा जाता है। जिसे हम भक्ति कहते हैं, वो भी प्रेम का ही एक अंग है। प्रेम जब अपने चरम पर पहुंचता है, तो भक्ति में परिवर्तित हो जाता है, जिसे ज्ञानी प्रेमयोग भी कहते हैं। हम सब आस्थावान ईश्वर के किसी न किसी रूप की पूजा करते ही हैं।
हम में से बहुतेरे अमूमन एक गलती करते ही हैं, जो ईश्वर साक्षात प्रेम स्वरूप है, हम उसी से अपने से छोटों, खासकर बच्चों को डराकर रखते हैं। ऐसा मत करो नहीं तो ईश्वर पाप देंगे, वैसा मत करो नहीं तो ईश्वर दंड देंगे। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि क्या ये कहने से बच्चे ऐसा करना बंद कर देते हैं। नहीं बल्कि इसका उल्टा प्रभाव पड़ता है और वे ईश्वर के समीप जाने की बजाय दूर होने लगते हैं। वे या तो अनिच्छा से पूजा-पाठ करते हैं या उनके मन में समाये डर के कारण। धीरे-धीरे वे अनमने मन से धार्मिक अनुष्ठानों में सम्मिलित होते हैं। उन्हें डर होता है कि कोई गलती हो गई तो, उन्हें पता नहीं क्या दंड मिले। और ऐसे में कोई अनहोनी हो जाये तो, वे अंधविश्वासी होने लगते हैं। ईश्वर का प्रेम जहां उन्हें आत्मविश्वासी बना सकता…

रफ़्तार

Image
गतांक से आगे...
-------------------

दो घंटे बाद
रिपोर्टर- कैसे हुई दुर्घटना
चश्मदीद- भैया हम कई सालों से यहां चाय की दुकान चला रहे हैं, जब से सरकार ने चौड़ी और चिकनी सपाट सड़क बनाई है, आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं।
आज भी ये लड़के बहुत ज्यादा तेजी से मोटर साइकिल चलाते हुये आ रहे थे और सुना है सबने बहुत शराब भी पी रखी थी। तेज गाड़ी चलाने की होड़ और मस्ती-मज़ाक करते-करते आपस में ही टकरा गए। गाड़ी की रफ़्तार तेज होने के कारण गाड़ी सड़क पर घिसट गई और लड़के खून से लथपथ हो गए, हेलमेट नहीं पहने होने के कारण सबके सिर पर चोट आयी थी और खून काफी ज्यादा बह गया था। जिससे एक दो लड़कों की मौत तो यहीं हो गई थी।
रिपोर्टर- किसी बड़ी गाड़ी ने तो टक्कर नहीं मारी।
चश्मदीद- अरे नहीं-नहीं इतनी चौड़ी सड़क है, आने जाने का अलग-अलग रास्ता, फोरलेन सड़क है। वैसे भी दिन में तो सड़क ज्यादातर खाली ही रहती है,भारी वाहन तो रात में गुजरते हैं।

3 घंटे बाद
रिपोर्टर- सर, सड़क दुर्घटना पर मेरी रिपोर्ट तैयार है।
संपादक- क्या तुम्हारी रिपोर्ट में।
रिपोर्टर- सर, लड़के अपनी गलती से दुर्घटना का शिकार हुए हैं, इसमें किसी की गलती नहीं है। स…

रफ़्तार

Image
रुको... रुको...
इतनी तेज रफ्तार से मोटर साइकिल चलाना नियम विरुद्ध है,  जुर्माना भरना पड़ेगा, यह कहते हुए ट्रैफिक सिपाही ने रसीद बुक निकाली और तेज गति से आ रहे वाहन चालकों को रोकते हुए कहा।
तभी बाइक पर सवार एक युवक ने लगभग चिल्लाते हुए कहा तू जानता है कौन हूं मैं...साले जुर्माना लगाएगा, तेरी तो रुक अभी बताता हूं।

अरे तुम लोग तो शराब भी पिये हुए हो और किसी ने हेलमेट भी नहीं पहना है, चालान तो बनेगा ही, साथ ही ड्राइविंग लाइसेंस भी निरस्त होगा... ट्रैफिक सिपाही ने कहा।
क्या कहा... तू ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त करेगा, रुक अभी बताता हूँ और यह कहते हुए उस नवयुवक ने अपने मोबाइल से किसी को फोन लगा दिया।
5 मिनट के बाद ही सिपाही के मोबाइल फोन की घंटी बजी और फ़ोन पे अधिकारी ने सिपाही को डांटना शुरू कर दिया। अधिकारी की लताड़ से सिपाही का सर झुक गया और वह चुपचाप खड़ा रहा। मोटर साइकिल सवार युवक सिपाही को गाली बकते, अट्टाहास करते हुये तेज रफ्तार से गाड़ी चलाते वहां से चले गए।

1 घंटे बाद
शहर का पूरा प्रशासन, पुलिस और मीडिया वाले सिटी से पांच किलोमीटर दूर हाईवे की ओर भागे जा रहे थे, खबर थी कि नगर सेठ का पुत्…

मनुष्य के दर्शन

Image
खाली बैठे-बैठे ईश्वर ने सोचा कि चलो धरती का भ्रमण कर अपने बनाये मनुष्य का हालचाल लिया जाए। मनुष्य के आपसी प्रेम और बंधुत्व की भावना को परखा जाए। मनुष्यता और मानवीयता के विषय पर मनुष्य का विकास देखा जाए। धरती पर "मनुष्य" से भेंट की जाए। यही सोचकर धरती पर आए ईश्वर की नज़र एक मंत्री जी पर पड़ी। उन्होंने जान लिया कि मंत्री जी एक सामाजिक कार्यक्रम में जा रहे हैं। ईश्वर ने सोचा कि इसे ही माध्यम बनाया जाए और उन्होंने उसकी काया में प्रवेश कर लिया। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे मंत्री जी का भव्य स्वागत देखकर ईश्वर को बड़ी खुशी हुई, उन्हें लगा मनुष्य में आपसी प्रेम कितना विकसित हो गया है। तभी नेताजी को पुष्पहारों से लादकर उनकी चरणवंदना देखकर ईश्वर को जल्द ही समझ में आ गया कि इन सारे प्रयोजनों का आशय कुछ और ही है और ईश्वर को ये देखकर बड़ी निराशा हुई।
तभी सामाजिक संगठन के सचिव ने मंत्री जी से कहा... आइये मान्यवर आपका सामाजिक बंधुओं से परिचय करा दूँ... वोट बैंक की मजबूती के लिए मंत्री जी सचिव के साथ चल दिये। सचिव- मान्यवर ये हैं मिस्टर बिल्डर, शहर की अधिकांश गगनचुम्बी इमारतों के …

ज़िन्दगी की किताब के पन्ने

Image
आँखों में  फिर चमकने लगे हैं  यादों के कुछ लम्हें गूंजने लगी हैं कान में  वो तमाम बातें  जो कभी हमने की ही नहीं  नज़र आई कुछ तस्वीरें  जो वक़्त ने खींच ली होगी  और तुम्हारा ही नाम  पढ़ रहा था हर कहीं  जब पलट रहा था मैं  ज़िन्दगी की किताब के पन्ने

अमरबेल की तरह

Image
दिल के शज़र की
इक शाख़ पे
इक रोज़
रख दिया था बेचैनी ने
तेरी याद का
इक टुकड़ा
और आज़
दिल के शजर की
कोई शाख़ नहीं दिखती
तेरी याद ने ढ़ाँक लिया है
अमरबेल की तरह
अब वहाँ
दिल नहीं है
सिर्फ तेरी याद है

एहसास की डोलची

Image
दिल के कमरे में अब
पसर चुकी है वीरानी
ख़्वाबों की अलमारी
कब से पड़ी है खाली
उम्मीदों की तस्वीरों ने
खो दिए हैं रंग अपने
आस की खिड़की भी
अब कभी नहीं खुलती
अश्क़ों की नमी से ऊग आई
एक कोने में यादों की काई
हाँ
ठसाठस भरी है दर्द से एहसास की डोलची




तेरे इंतज़ार की बोझल आँखें शाम ढ़लते-ढ़लते हो जाती है ना-उम्मीद तब तन्हाई के बिछौने पे तेरी यादें ओढ़कर सो जाता हूँ क्योंकि कुछ ख़्वाब इन आँखों की राह तकते हैं चित्र साभार-गूगल

इक तेरे जाने के बाद

Image
हर शाम ग़मगीं सी
हर सुबह उनींदी सी
हर ख़्याल खोया सा
इक तेरे जाने के बाद
हर वक़्त बिखरा सा
हर अश्क़ दहका सा
एहसास भिगोया सा
इक तेरे जाने के बाद
हर दर्द महका सा
हर वक़्त तन्हा सा
हर ख़्वाब रोया सा
इक तेरे जाने के बाद
हर सांस चुभती सी
हर बात कड़वी सी
हर नाम ढ़ोया सा
इक तेरे जाने के बाद


शब्द बिखर जाते हैं

Image
अक्सर शब्द बिखर जाते हैं
कोशिश बहुत करता हूँ, कि
शब्दों को समेट कर
कोई कविता लिखूं
पर ये हो नहीं पाता
कोशिश बहुत करता हूँ कि
एहसास समेट कर रखूं
पर ये हो नहीं पाता
तकिये पर बिखरे अश्क़ों की तरह
अक्सर शब्द बिखर जाते हैं