Sunday, February 5, 2017

जेवर बनाता हूँ

पलक की सीपियों में अश्क़ को गौहर बनाता हूँ
मैं तन्हाई की दुल्हन के लिए जेवर बनाता हूँ

कभी चंपा कभी जूही कभी नर्गिस की पंखुडियां 
तेरे  वादों  को मैं  तस्वीर  में  अक्सर  बनाता हूँ

मेरी मंजिल की राहों में खड़ा है आसमां तू क्यूँ
ज़रा हट जा मैं अपने हौसले को पर बनाता हूँ

ज़ेहन में  चहचहातें  हैं तुम्हारी  याद के  पंछी
मैं जब भी सोच में कोई हसीं मंज़र बनाता हूँ

*चित्र साभार- गूगल