Posts

Showing posts from September, 2017

ज़िन्दगी की किताब के पन्ने

अमरबेल की तरह

एहसास की डोलची

इक तेरे जाने के बाद

शब्द बिखर जाते हैं

शायद तुम नहीं जानती