Posts

Showing posts from October, 2017

लौट गई तन्हाई भी

ख्वाब की तरह से

चाँदनी की तरह

फेफड़ों को खुली हवा न मिली

मिला जो शख़्स