Posts

Showing posts with the label भारत

रफ़्तार

Image
रुको... रुको...
इतनी तेज रफ्तार से मोटर साइकिल चलाना नियम विरुद्ध है,  जुर्माना भरना पड़ेगा, यह कहते हुए ट्रैफिक सिपाही ने रसीद बुक निकाली और तेज गति से आ रहे वाहन चालकों को रोकते हुए कहा।
तभी बाइक पर सवार एक युवक ने लगभग चिल्लाते हुए कहा तू जानता है कौन हूं मैं...साले जुर्माना लगाएगा, तेरी तो रुक अभी बताता हूं।

अरे तुम लोग तो शराब भी पिये हुए हो और किसी ने हेलमेट भी नहीं पहना है, चालान तो बनेगा ही, साथ ही ड्राइविंग लाइसेंस भी निरस्त होगा... ट्रैफिक सिपाही ने कहा।
क्या कहा... तू ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त करेगा, रुक अभी बताता हूँ और यह कहते हुए उस नवयुवक ने अपने मोबाइल से किसी को फोन लगा दिया।
5 मिनट के बाद ही सिपाही के मोबाइल फोन की घंटी बजी और फ़ोन पे अधिकारी ने सिपाही को डांटना शुरू कर दिया। अधिकारी की लताड़ से सिपाही का सर झुक गया और वह चुपचाप खड़ा रहा। मोटर साइकिल सवार युवक सिपाही को गाली बकते, अट्टाहास करते हुये तेज रफ्तार से गाड़ी चलाते वहां से चले गए।

1 घंटे बाद
शहर का पूरा प्रशासन, पुलिस और मीडिया वाले सिटी से पांच किलोमीटर दूर हाईवे की ओर भागे जा रहे थे, खबर थी कि नगर सेठ का पुत्…

अधिकार याद रहे कर्तव्य भूल गए

Image
15 अगस्त को भारत वर्ष में स्वतंत्रता दिवस बड़े ही हर्षोल्लास और धूमधाम से मनाया जाता है। हर्ष इस बात का कि इस दिन हमें आजादी मिली और धूम इस बात की कि अब हम पूरी स्वतत्रंता से अपनी मनमानी कर सकते हैं। गाहे-बगाहे हम स्वतंत्रता की बात करते हुए अपने अधिकारों के लिये लड़ते हैं। जो मन होता है कह देते हैं और जब हमारे कहे का विरोध होता है तब इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार कहते हुए सही ठहराते हैं। हम अपने अधिकारों के लिये पूरी शक्ति से लड़ते हैं और इसका अतिक्रमण होने पर पुरजोर विरोध भी करते हैं, लेकिन अधिकारों की लड़ाई में हम अपने कर्तव्य भूल जाते हैं। ज्ञात रहे कि हमें संविधान ने 6 मौलिक अधिकार दिए हैं, लेकिन हमारे 11 मूल कर्तव्य भी हैं। ये सही है कि हमें अपने अधिकारों के प्रति सजग रहना चाहिए, लेकिन अपने कर्तव्यों को भी नहीं भूलना चाहिये।
संविधान ने हमें जो मौलिक अधिकार दिए गए वो इसलिए ताकि कोई हमारी आज़ादी न छीन सके, हमारा शोषण न कर सके। लेकिन अधिकारों को पाकर हम इतने उन्मुक्त न हों जाएं कि अपने कर्तव्यों को भूल जाएं और इससे हमारे समाज और देश का अपयश हो। हमें संविधान द्वारा मूल रूप से सा…