Posts

अमरबेल की तरह

एहसास की डोलची

इक तेरे जाने के बाद

शब्द बिखर जाते हैं

शायद तुम नहीं जानती

ज़िन्दगी मुस्कुरा दी

सौग़ात हो गई